- Sputnik भारत, 1920
Sputnik स्पेशल
उबाऊ राजनीतिक मामले और अधिकारियों की टिप्पणियाँ आपको Sputnik से नहीं मिलेंगी! देश और विदेश से आम ही लोग अपनी भावनाएं और आकांक्षाएं Sputnik से साझा करते हैं। ह्रदय को छूनेवाली कहानियाँ, प्रेरणादायक सामग्रियाँ और आश्चर्यपूर्ण रहस्योद्घाटन प्राप्त करें!

कार्यरत महिलाओं की संख्या के आधार पर कंपनियों को रैंक देना चाहिए, शिपिंग बॉस कहती हैं

© PhotoSanjom Sahi Gupta, Director, Sitara Shipping, Founder, MaritimeSheEO, Top 100 Women in Shipping by All About Shipping UK, Executive Board Member - World Maritime University
Sanjom Sahi Gupta, Director, Sitara Shipping, Founder, MaritimeSheEO, Top 100 Women in Shipping by All About Shipping UK, Executive Board Member - World Maritime University  - Sputnik भारत, 1920, 17.06.2023
सब्सक्राइब करेंTelegram
विशेष
G20 की अध्यक्षता के हिस्से के रूप में, भारत में इस सप्ताह 14 से 16 जून तक महिला-20 शिखर सम्मेलन चल रहा है। तमिलनाडु के शहर महाबलीपुरम में इस साल के दो दिवसीय आयोजन का विषय 'महिला नेतृत्व विकास, रूपांतरण, उन्नाति और उत्थान' है।
पिछले कुछ दशकों तक काम के सभी क्षेत्रों में महिलाओं की भागीदारी में वृद्धि हुई। कई महिलाएं अब आईटी और विज्ञान के अन्य क्षेत्रों में काम करती हैं और भारत में इन क्षेत्रों में काम करने वाली महिलाओं के अनुपात में पिछले दो वर्षों के दौरान भी 26 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
हालाँकि, समुद्री क्षेत्र में अभी पुरुषों का बहुमत है, दुनिया के नाविकों में महिलाएं का हिस्सा केवल 1.2 प्रतिशत है, भारत में वह 0.5 प्रतिशत है। इसका अर्थ है कि दुनिया भर में समुद्री क्षेत्र में यौन विविधता का समर्थन करने के लिए नीति और पहलों की आवश्यकता है।
Sputnik ने वूमेंस इंटरनेशनल शिपिंग एंड ट्रेडिंग एसोसिएशन (WISTA) की संस्थापक और महिला-20 के बातचीत में हिस्सा लेने वाली संजम साही गुप्ता के साथ शिपिंग में उनके करियर पर और इस क्षेत्र में चुनौतियों और यौन से संबंधित रूढ़िवाद पर चर्चा करने के लिए बात की।
इसके साथ वे सितारा शिपिंग लिमिटेड और एस्ट्रल फ्रेट फारवर्डर्स [प्राइवेट] लिमिटेड की निदेशक हैं और वर्ल्ड मैरीटाइम यूनिवर्सिटी के कार्यपालक बोर्ड की सदस्य भी हैं।
Sputnik: महिलाओं का सशक्तिकरण इस साल G20 के एजेंडे में शीर्ष विषय है। आज महिलाओं पर सबसे बड़ा दबाव डालने वाले मुद्दे क्या हैं?
गुप्ता: सबसे पहले मैं अधिक महिलाओं को कार्य की ओर आकर्षित करना चाहती हूँ और इसलिए जरूरी है कि नेतृत्व के पदों को अधिक महिलाएं संभालें। अगर कम महिलाएं नेतृत्व के पदों पर हैं तो हम इस स्थिति को नहीं बदल सकेंगे। अगर नेतृत्व के पदों पर पर्याप्त महिलाएं नहीं हैं, तो लड़कियों के लिए पर्याप्त रोल मॉडल नहीं होंगी।
दुनिया भर में महिलाओं को यह जानने की जरूरत है कि वे बाधाओं को तोड़ सकती हैं।
Sputnik: शिपिंग उद्योग को अभी पुरुषों के क्षेत्र के रूप में माना जाता है, तो आपकी राय में यौन से संबंधित इस रूढ़िवाद से कैसे लड़ना चाहिए?
गुप्ता: दो भूमिकाएँ हैं जो प्रायः महिलाएं शिपिंग में निभा सकती हैं, वे समुद्री नाविक और तट पर उपलब्ध कुछ पद हैं।
पारंपरिक रूप से समुद्री क्षेत्र में ज्यादातर पुरुष हैं, परंतु समय बदल रहा है। अब हमारे पास समुद्र और तट पर अधिक महिला रोल मॉडल हैं, लेकिन हमारे सामने अभी लंबा रास्ता है। हमें जो करने की आवश्यकता है वह रूढ़िवादिता को तोड़ने के लिए अभियान चलाना जारी रखना है।
जब मैं उस रूढ़िवादिता का सामना करती हूं, तो मैं खुद को समुद्री क्षेत्र में एक महिला के बजाय समुद्री पेशेवर के रूप में समझती हूं।
© Photo : Special ArrangementsSanjom Sahi Gupta (Left, 4th position) along with other panelist in W-20
Sanjom Sahi Gupta (Left, 4th position) along with other panelist in W-20 - Sputnik भारत, 1920, 17.06.2023
Sanjom Sahi Gupta (Left, 4th position) along with other panelist in W-20
Sputnik: आपने भारत में वूमेंस इंटरनेशनल शिपिंग एंड ट्रेडिंग एसोसिएशन (WISTA) की स्थापना की थी। क्या आप समझा सकती हैं कि आपको ऐसा क्यों लगा कि समुद्री उद्योग में महिलाओं के लिए कोई विशेष समूह बनाने की आवश्यकता है?
गुप्ता: मुझे भारत में WISTA को बनाए 10 साल हो चुके हैं। उस समय, [समुद्री क्षेत्र में] बहुत कम महिलाओं के बारे में जानकारी थी, और महिलाओं के लिए कोई समुद्री मंच नहीं था। बैठकों और सम्मेलनों में लोगों को "सज्जनों" के रूप में संबोधित किया गया था, हालांकि कमरे में कुछ महिलाएं थीं। आज मुझे यह कहते हुए खुशी है कि WISTA भारत में समुद्री क्षेत्र में महिलाओं की आवाज है। लोग उनके बारे में जानते हैं, उनके योगदान को स्वीकार किया गया है, और वे शिपिंग में महिलाओं को सहायता प्रदान करती हैं।
Sputnik: आपने अपने कार्यक्रम के लिए मंच बनाने की कैसी योजना बनाई है, और आपकी चिंताएँ क्या हैं?
गुप्ता: WISTA के आधार पर मैंने समुद्री उद्योग में महिला नेताओं को बनाने का इरादा रखते हुए Maritime SheEO स्थापित किया था। समुद्री क्षेत्र से संबंधित संयुक्त राष्ट्र के निकाय यानी अंतर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन के वित्त पोषण की सहायता से हम समुद्री क्षेत्र में महिलाओं के लिए नेतृत्व एक्सेलेरेटर कार्यक्रम चलाती हैं।
मेरी चिंताएं ये हैं कि यद्यपि मुख्य कार्यकारी अधिकारी विविधता के महत्व को स्वीकार करते हैं, वे पर्याप्त काम नहीं करते हैं, वे ऐसे लक्ष्यों को निर्धारित नहीं करते हैं और अपने लिंग अनुपात को घोषित भी नहीं करते हैं। हमें कंपनियों को उनके लिंग अनुपात और महिलाओं के प्रति नीतियों के आधार पर श्रेणीबद्ध करना चाहिए और कंपनियों को इस जानकारी को घोषित करना भी चाहिए।
न्यूज़ फ़ीड
0